Backlink kya hai ? ये seo में क्यों जरूरी है ? | बैकलिंक क्या है? और कैसे बनाये

Backlink kya hai:- types of backlinks in Hindi. backlink kya hai , कैसे बनाते है? Blogging में do-follow backlinks Kaise banaye. SEO Kaise karen

ननमस्कार दोस्तो ,आपने  हमारी पिछली पोस्ट/ आर्टिकल में पढ़ा ,कि blob kya hai blog se paise kaise kamaye. Google par free blog kaise create karen। यदि आपने अपनी ब्लॉग या वेबसाइट बना ली है,तो अब आपके मन मे ये ख्याल आया होगा ,की अब हम अपने blog को google पर rank कैसे करें।

Backlink kya hai ? ये seo में क्यों जरूरी है ? |  बैकलिंक क्या है? और कैसे  बनाये

ये बैकलिंक क्या होता है,SEO में बैकलिंक का क्या काम होता है?

Backlink  seo ( Search Engine optimization ) की दुनिया मे सबसे  ज़्यादा   यूज़ होने वाला  word है |बहुत से ब्लॉगर जिन्होंने अपनी नई ब्लॉग स्टार्ट की है उन्हें समझने में दिक्कत होती है ,कि backlink  का मतलब क्या होता है।

हम आपको इस पोस्ट में backlink का मतलब इन SEO के बारे में पूरी जानकारी |

Backlink  kya hai ?(what is backlink in seo)

Backlink  एक प्रकार का लिंक है, जो एक वेबसाइट से दूसरी वेबसाइट को मिलता है। backlink search result parinaam website ko प्रमुखता  pradan Karte Hain.

Read this :- how to install app in laptop

Backlink आपके वेबसाइट पर आने वाली incoming लिंक हैं, जब एक web page किसी other page से लिंक होता है,इसे बैकलिंक कहते है,जिस page पर जितनी ज्यादा backlinks होती है,उसका rank उतना ही high होता है.जब tricksontime.com ये किसी दूसरी वेबसाइट में मिलती है,तो इसका मतलब मुझे other वेबसाइट से एक बैकलिंक मिला है. और इसे ही SEO की भाषा मे बैकलिंक कहते है।

backlink kya hai

जब आप दूसरी वेबसाइट में जाकर अपने blog/website का link डालते  हैं, तो इस प्रक्रिया को बैकलिंक बनाना कहते हैं.

ये पोस्ट भी पढ़े:- likee app launch corona dashboard मिलेगी कोरोना की जानकारी

बैकलिंक नेचुरल होना चाहिए ,इसका मतलब ये नही की आप  अपनी वेबसाइट का बैकलिंक बनाने के लिए आर्टिफिशियल तरीक़े यूज़ करे बैकलिंक relavent होना चाहिए,

जिस ब्लॉग की Domain ऑथोरिटी ज्यादा हो,और वो आपके टॉपिक से रिलेटेड हो उस वेबसाइट से हो बैकलिंक बनाना चाहिए ।

बैकलिंक के प्रकार इन हिंदी (Types of backlinks )

Backlink  दो प्रकार के होते है और ये दोनों प्रकार के बैकलिंक के बारे में मैंने नीचे  विस्तार से बताने की कोशिश की है,दोनो प्रकार के बैकलिंक में क्या अंतर होता है:-

  1. NO FOLLOW BACKLINK
  2. DO- FOLLOW BACKLINK

NO FOLLOW BACKLINK

जब एक वेबसाइट किसी दूसरी website से link करती है,लेकिन अगर उस link के paas nofollow tag है,तो वो link juice paas नही करती nofollow links page की ranking में कोई  काम नही आते है।

जब किसी वेबसाइट में कोई किसी LINK  को NO फॉलो TAG  देता है ,तो जब गूगल का क्राउलर उस वेबसाइट को CROWL  कर रहा होता है,तो गूगल का क्राउलर उस  LInK वेबसाइट को फॉलो नहीं करता है | इस लिंक को केवल मनुष्य ही READ  कर सकता है |

<a href=”www.tricksontime.com” rel=”nofollow”> technology tips & tricks in hindi </a>

Do follow backlink

किसी भी Blog  आर्टिकल और वेबसाइट में आपके द्वारा जोड़े गए सभी link  Do follow लिंक होते हैं, जब तक कि वे No follow  टैग नहीं होते हैं | Do follow link आपके ब्लॉग और वेबसाइट के लिए हर तरह से उपयोगी होते  है | इन link  को  link  जूस से पास किया जाता है |

ये पोस्ट भी पढ़े:- website speed optimization tips | blogger blog speed kaise badhaye

जब आपके वेबसाइट पर कोई Do follow लिंक होता है, तो गूगल का क्राउलर आपकी वेबसाइट में प्रजेंट उस link को भी crowl  कर देता है,जिससे कि उस लिंक से संबंधित वेबसाइट गूगल पर Rank  करने लग जाती है |

<a href="www.tricksontime.com" > technology tips & tricks in hindi </a>

बैकलिंक बनाते समय जरुरी जानकारी 

backlink create करते time आपको बहुत सारी बातो का ध्यान रखना होता है।

Link juice

जब  भी एक वेब पेज आपके आर्टिकल या  आपकी वेबसाइट के होमपेज से लिंक होता है ,वह लिंक juice  पास करता है| यह लिंक जूस आपके आर्टिकल की रैंकिंग में हेल्प करता है |

  और आपकी डोमेन अथॉरिटी को भी इंप्रूव करता है | एक ब्लॉगर होने के नाते आप link  जूस पास करना पसंद कर सकते हैं by using  do follow backlink.

linking root domains

इसका मतलब होता है, नंबर ऑफ बैकलिंक्स ,जो आप की वेबसाइट पर यूनिक domain  से आती है ,अगर कोई वेबसाइट आपके वेबसाइट से 10 टाइम भी लिंक करती है ,तो भी वह domain  तो भी यूज वन link root domain बैकलिंक भी माना जाता है |

low quality backlink

low Quality लिंक्स  ऐसी  लिंक है, जो harvested site,automated sites ,spam sites या किसी porn sites से आती है,ये links आपके लिए काफी नुकसान दायक होती है ,ये links आपकी वेबसाइट ranking को गिराती है।

internal links

ये लिंक ऐसे लिंक होते है,जो एक कि domain पे ,एक page को दूसरे page  पे दी गयीं हो,इन्हें Internal links कहते है।

external /outbond link

ये ऐसे link होते है ,जो  हमारी वेबसाइट के नही होते है ,ऐसे link को किसी वर्ड की मीनिंग समझाने के लिए यूज़ किया जाता है | एक्सटर्नल link do फॉलो  और no फॉलो दोनों हो सकते ही |

example : जैसे मैंने अपनी वेबसाइट में विकिपीडिया या गूगल का कोई भी और अच्छी वेबसाइट का लिंक डाला है, जो किसी पार्टिकुलर keyword  के बारे में बताता है, उसे एक्सटर्नल लिंक कहते हैं |

Anchor text

हाइपरलिंक यूज किए जाने वाले text को ही anchor text कहते है| Anchor text बैकलिंक बहुत अच्छा काम करती है,अगर आप किशी particular keywords पे लिंक करना  चाहते है |

जैसे कि ऊपर लिखा होगा ,Tricks on time और जब आप इस टेक्स्ट पर click करेंगे ,तो मेरी वेबसाइट open हो जाएगी इस text को हम anchor text कहते है |

कैसे पता करे ,की Do follow ya No follow बैकलिंक है ?

Do follow और No follow बैकलिंक के बारे में जानने का बहुत ही आसान तरीका है।

सबसे simple तरीका   यह है,की  अगर आप Firebox browser use करते है,तो अपने ब्लॉग पर  NoDofollow  firefox add-on इंस्टॉल कर के एंड यह लिंक को color देता है,blue कलर का मतलब Dofollow link एंड लाल कलर का मतलब Nofollow बैकलिंक है।

यदि आप क्रोम ब्राउज़र यूज़ करते है,तो SEO  Quake Install करें ये भी same work करता है।

SEO में backlink बनाने के फायदे 

Search engine ranking में इम्प्रूवमेंट  होती है ,जब आप के बैकलिंक increase honge  तो सर्च इंजन में आप  वैसे वैसे आप ऊपर चले जायँगे |

अगर आपके प्रजेंट टाइम में 10 बैकलिंक है,जो Dofollow  है और आप गूगल के दसवें पेज पर Rank  कर रहे हैं, तो जब आपके 100 बैकलिंक हो जाएंगे तो आप गूगल के फर्स्ट या2  पेज में Rank करेंगे |

ये पोस्ट भी पढ़े:blog kya hai aur blog kaise banaye | ब्लॉग क्या होता है? ब्लॉग से पैसे कैसे कमाए जाने

बैकलिंक   के कारण आपके वेबसाइट में ट्रैफिक इनक्रीस होती है ,जब आप अपना लिंक किसी दूसरी वेबसाइट पर देंगे तो वहां से लोग आपके लिंक फॉलो करके आपके आर्टिकल पढ़ने के लिए भी आ सकते हैं,

जिससे कि आप की ट्रैफिक भी इनक्रीस  हो जाएगी और अब आप समझ गए होंगे कि बैकलिंक क्या  है ?
अब हम बैकलिंक के फायदे के बारे में जानेंगे |

Improve organic ranking 

बैकलिंक आपको  better search engine ranking पाने  में help करती है,अगर आपका content organic links पा रहा है, other sites से naturally आपके blog की ranking बढ़ जाएगी  search engine result ranking में ।

blog की google में   faster indexing 

Backlink search engine बोट्स को आपकी site की link खोजने में help करते है, विशेष रूप से नई ब्लॉग के लिए ,बैकलिंक पाना  जरूरी है,क्योकि बैकलिंक आपके ब्लॉग की google में indexing को faster बना देते है।

Referral traffic 

बैकलिंक  का सबसे बड़ा फायदा यह होता है, कि वह रेफरल ट्रैफिक प्राप्त करने में मदद करते हैं  |कोई व्यक्ति जो अन्य ब्लॉग पर कोई लेख लिख रहा है वह आपको बैकलिंक देता है और अधिक जानकारी पाने के लिएयूजर  इस लिंक से आप की वेबसाइट के लेकर आते हैं |

backlink kya hai, do-follow बैकलिंक ke baren me aur jaanne ke liye ye video dekhe ⇓⇓⇓⇓⇓⇓⇓  

बैकलिंक कैसे बनाये

जब कोई व्यक्ति आपके आर्टिकल को पढ़ने के लिए आपकी साइट पर आता है और के रिलेवेंट लेख उसको मिलता है, तो आपकी साइट पर वह कुछ समय के लिए रुका रहता है, जिससे कि यूजर इंगेजमेंट में वृद्धि होती है और बाउंस रेट में कमी हो जाती है |

बैकलिंक कैसे बनाये (How to create powerful backlink )

दोस्तों अब तक आप बैकलिंक   का मतलब समझ ही गए होंगे ,क्योंकि यह search engine optimization से संबंधित है और SEO में किसका कितना महत्व यह भी जान गए होंगे |

एक   बात जो आपको बेक लिंक  के बारे में ध्यान रखना है ,वह यह है कि backlink की संख्या मायने नहीं रखती है बल्कि बैकलिंक की गुणवत्ता मायने रखते हैं 10 कम अच्छे बैकलिंक बनाने में बेहतर है, कि एक हाई क्वालिटी बैकलिंक बनाया जाए |

High-Quality backlink बनाने के तरीके

  • SEO फ्रेंडली  आर्टिकल लिखे
  • submit guest post
  • वेब डिरेक्टरी  सबमिट करे
  • कोमेंट करे

SEO फ्रेंडली आर्टिकल लिखे 

यदि आप चाहते हैं, कि अन्य ब्लॉगर आपके वेबसाइट को link करे,तो आपको seo फ्रेंडली आर्टिकल लिखना होगा,और उन्हें आपको बैकलिंक देने का कारण देना होगा,कि आखिर लोग आपको लिंक क्यो दे ?

यदि आपका आर्टिकल दुसरो bloggers  लिए हैल्पफुल है,तो आपको अन्य लोग बैकलिंक देकर खुश होंगें |ज्यादा बैकलिंक पाने के लिए tutorial और टॉप 10 लीस्ट ऐसे आर्टिकल के कुछ example है,जिनमे आपको बहुत सारे बैकलिंक मिलने की संभावना रहती है।

submit guest post

अपने ब्लॉग को Rank  करवाने के लिए आपको Dofollow बैकलिंक   की जरूरत होगी |और आपको dofollow backlink guest post के माध्यम से मिल सकते है। बहुत सारे  website aur ब्लॉग  पर आपको guest post submit करने का option मिल जायेगा, वँहा पर आप अपना अच्छा content जो seo friendly हो।

पोस्ट करके आप वंहा से एक अच्छा खाशा do follow backlinks पा सकते है, और अपने blogger website को Google per first page में रेंक करवा सकते है।

web directory में   submit करे

Web डाइरेक्टरी में अपने blog  और वेबसाइट को सबमिट करके बैकलिंक पाना ये एक बहुत भी आसान तरीका है,पर आज के टाइम में   ये तरीका आसान नही हैं। एक legal web directory को खोजना आसान नही है।

Comments करना शुरू करें 

Comments  backlink पाने का सबसे आसान और सबसे  अच्छा तरीका है. Dofollow foruoms ,dofollow ब्लोग्स wordpress ब्लोग्स पे top commentor plugin का यूज़ करके कंमेंट करना शुरू करें ।

कमेंट के द्वारा आप सबसे ज्यादा ट्रैफिक पा सकते हैं और इससे बैटर सर्च इंजन विजिबिलिटी भी मिलती है

Backlink बनाने के अलग तरीके 

इन सब के अलावा भी बैकलिंक बनाने  के  तरीके है,जिन से आप बैकलिंक create  कर सकते है।

  • guest blogging
  • सोशल मीडिया से backlink पाना
  • प्रोफाइल बैकलिंक बनाना
  • Quara
  • Question एंड answer

ye post jarur padhe

backlink kya hai:- conclusion

friends post (Backlink kya hai  | बेकलिंक कैसे बनाते है पूरी जानकरी हिंदी में  ) ki help se backlink ke baren main puri janakri mil gayi hogi.

इस पोस्ट को रीड करने के बाद में google पर ये सर्च करने की जरूरत नहीं होगी ,कि backlink kya hai ? ,backlink कैसे बनाये इन  हिंदी |

यदि आपकी backlink से related कोई भी क्वेरी है,तो आप कॉमेंट्स कर सकते है | मैं आपके कमेंट्स का रिप्लाई करने की कोशिश करूँगा |

यदि आपको हमारी ये पोस्ट seo में हेल्पफुल लगी हो ,तो आप कृपया करके इसे अपने दोस्तों के साथ  Facebook,Instagram and whatsapp पर शेयर करें |

5 thoughts on “Backlink kya hai ? ये seo में क्यों जरूरी है ? | बैकलिंक क्या है? और कैसे बनाये”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!