Introduction to computer and generations in Hindi | कंप्यूटर का परिचय और पीढ़िया हिंदी में

introduction to computer:- इस पोस्ट में computer के Introduction कंप्यूटर generations के बारे में बताया है। कंप्यूटर का इतिहास | computer generations in hindi. Introduction to computer in hindi.

दोस्तों आपका एक बार फिर से स्वागत है ,हमारे ब्लॉग tricksontime में, इस ब्लॉग में आपको टॉप टिप्स मिलती है, जो आपके लिए उपयोगी होती है जिनसे आप अपने छोटे-मोटे कामों को आसानी से कर सकते हैं ,तो दोस्तों मैंने इस ब्लॉग में एक नया करने की कोशिश की है। वह यह किया है, कि मेने इसके अंदर computer category बनायीं है, जिसके अंदर मैं कंप्यूटर से रिलेटेड सारी पोस्ट डालूंगा |

ये पोस्ट भी पढ़े:- what is laptop in hindi | लैपटॉप क्या होता है ? फायदे और नुकसान जाने

Introduction to computer and generations in Hindi | कंप्यूटर का परिचय और पीढ़िया हिंदी में
computer introduction in hindi

कंप्यूटर के परिचय से लेकर कंप्यूटर के एडवांस तक कि आपको सारी पोस्ट मेमिल जाएगी ,जिसमें आपको कंप्यूटर का बेसिक से लेकर आपको एडवांस पोस्ट मिलेगी, जिनसे आप बहुत कुछ सीख सकते हैं ,यदि आपको कंप्यूटर नहीं आता है, तो आप बहुत कुछ सीख सकते हैं |

Introduction to computer in hindi

Computer एक ऐसा Electronic Device है जो User द्वारा Input किये गए Data में प्रक्रिया करके सूचनाओ को Result के रूप में प्रदान करता हैं, अर्थात् Computer एक Electronic Machine है जो User द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करती हैं| इसमें डेटा को स्टोर, पुनर्प्राप्त और प्रोसेस करने की क्षमता होती है।

Table Of Contents

computer introduction in hindi

आज इस पोस्ट में, मैं आपको कंप्यूटर के इतिहास और उसके परिचय के बारे में बताऊंगा।

कंप्यूटर का परिचय

दोस्तों कंप्यूटर एक मशीन है जो हर इंसान के जीवन में लगभग सभी सेक्टर्स में यूज किया जा रहा है। वेब टेक्नोलॉजी, इंटरनेट और मोबाइल फोन की क्रांति ने ज्ञान के नए आयाम स्थापित किए हैं ,और एक नए विचार प्रक्रिया को जीवन दिया है। तो हम कैसे कई कंप्यूटर में हमारे जीवन को पूरी तरह से बदलती है, जो काम पहले बहुत कम समय में होते थे ,वह काम में बहुत तेजी से होने लगे हैं | यह कंप्यूटर का सबसे बड़ा फायदा है और इसका योगदान है हमारी जीवन में।

पीसी आने की पर्सनल कंप्यूटर डिजाइन और प्रकाशन कार्यों के लिए छात्रों ,इंजीनियर ,और लेखको के द्वारा यूज किया जाता है। कंप्यूटर ने सीखने की प्रक्रिया को भी बहुत आगे बढ़ा दिया है | पहले विद्यार्थी जब कक्षा में नहीं होते हैं तो अपना अध्ययन नहीं कर पाते थे , लेकिन अब कंप्यूटर की मदद से सभी अभ्यार्थी क्लास से बाहर होते हुए भी अपना अध्ययन पूरा कर पाते हैं।

और इंटरनेट के आने से तो अब जानकारियां बहुत कम समय में सभी को मिल जाती है अब लोग सम इनफार्मेशन के लिए भी इंटरनेट यूज करते हैं, और बैंकिंग, शॉपिंग और कहीं अधिक कार्य के लिए सभी कंप्यूटरों का यूज कर रहे हैं.

अबे कंप्यूटर से एक बटन दबाते ही सभी प्रकार की जानकारियां मिल जाती है तो यह कंप्यूटर का ही बड़ा आविष्कार है जिसने हमारी कार्यों को आसान किया है।

कंप्यूटर की पीढ़ियां एनी जेनरेशंस

हम कंप्यूटर को पांच पीढ़ियो में विभाजित करते हैं इन पीढ़ियो को कंप्यूटर के द्वारा उपयोग में ली जाने वाली टेक्नोलॉजी के आधार पर परिभाषित कर सकते हैं ।टाइम के गुजरने के साथ-साथ नई टेक्नोलॉजी आई और उसने हमारी कंप्यूटर में कार्य करने की दक्षता को पूरी तरह से बदल कर रख दिया है:-

कंप्यूटर  generations in hindi
कंप्यूटर की जनरेशन

प्रथम पीढ़ी यानी फर्स्ट जनरेशन (1942to1956)

पहले पीढ़ी के कंप्यूटर में इलेक्ट्रॉनिक घटक के रुप में वैक्यूम ट्यूब और डेटा भंडारण के लिए चुंबकीय ड्रम का इस्तेमाल किया गया था| उनका आकार काफी बड़ा होने के कारण रखने के लिए पूरे कमरे की आवश्यकता होती थी

first genration के computer बहुत महंगे थे ,वह अधिक गर्मी कॉशन करते थे, जिसकी वजह से उन्हें ठंडा करना बहुत आसान नहीं होता था | उनका भी बहुत कठिन होता था |इस पीढ़ी के कंप्यूटरों को ऑपरेट करने के लिए मशीन भाषा का इस्तेमाल इसकी प्रोग्रामिंग भाषा के रूप में किया गया था |

ये पोस्ट भी पढ़े:-hide photo files windows | कंप्यूटर में फोटो फाइल को कैसे छुपाए अभी जाने !

पहली पीढ़ी के कंप्यूटर में डाटा को पंच कार्ड और कागज के द्वारा डाटा दिया जाता था। जो पहली पीढ़ी के कंप्यूटर थे वह एक समय में एक ही समस्या को हल कर सकते थे, यह पहली पीढ़ी के कंप्यूटर की एक कमी थी। (Introduction to computer)

दूसरी पीढ़ी (1956 to1965) computer second-generation (transistors )

अब दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों में इलेक्ट्रॉनिक घटक के रुप में ट्रांजिस्टर का इस्तेमाल किया गया था। ट्रांजिस्टर कुशल, तेज और कम बिजली की खपत और पहली पीढ़ी के कंप्यूटर की तुलना में अधिक सस्ते और विश्वसनीय थे , इन से अधिक तेज गति से कार्य किया जा सकता था।

यह कंप्यूटर की प्रथम पीढ़ी का कंप्यूटर की तरह ही अधिक गर्मी का उत्सर्जन करते, तो लेकिन यह उनसे ज्यादा कार्य करने में कुशल थे।

इस genrations में चुंबकीय और प्राइमरी मेमोरी और चुंबकीय टेप एंड चुंबकीय डिस्क सेकेंडरी भंडारण यानी कि storage के रूप में इस्तेमाल किया गया था।

cobol और Fortran के रूप में उच्च स्तरीय कंप्यूटर प्रोग्राम भाग सेकंड जनरेशन में स्टार्ट की गई थी ।

तीसरी पीढ़ी (1965to 1975) computer third generation (integrated circuit)

जो तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर थे, उनमें ट्रांजिस्टर के स्थान पर इंटीग्रेटेड सर्किट यानी कि आई सी का इस्तेमाल किया गया था। ऐसी ट्रांजिस्टर प्रतिरोध और कैपिटल को मिलाकर बनाई गई एक ही डिवाइस है, जिससे कंप्यूटर के आकार को और भी छोटा बनाया जा सकता था।

इस पीढ़ी के कंप्यूटर द्वारा इनपुट और आउटपुट के लिए keyboard और monitor का इस्तेमाल किया गया था | इसमें oprating system की अवधारणा को भी इसी टाइम पर पेश किया गया था|

इसमें time-sharing और multiprocessing की अवधारणा को भी पेश किया गया था इसमें कई उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं की शुरुआत की गई जैसे फोर्ट्रन ,आईवी, पास्कल, बेसिक इत्यादि । (Introduction to computer)

कंप्यूटर  third generation in hindi
कंप्यूटर third generation in hindi

चौथी पीढ़ी( 1975to1988) कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी VLSI

कंप्यूटर की इस genration में microprocessor की शुरुआत हुई जिसमें हजारों आईसी को मिलाकर एक सिंगल चिप बनाए गया जो silicone पर बनाई जाती थी।

इस पीढ़ी के कंप्यूटर में एक बड़े पैमाने पर VLSI तकनीक का इस्तेमाल कर बनाए गए थे।

सन 1971 में इंटेल 4004 जीत विकसित किया गया था। इस genration में एक सिंगल चिप पर सारे कंप्यूटर के कंपोनेंट को फिट किया गया।

इस पीढ़ी में रियल टाइम प्रोसेसिंग और डिस्ट्रीब्यूटर टो ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया गया और उच्च स्तरीय प्रोग्राम भाषाओं जैसे c, c++,डाटाबेस को भी इस्तेमाल किया गया था।

पांचवी पीढ़ी 1998 से अब तक (current )

पांचवी पीढ़ी के रूप में एक नई तकनीक से यू एल एस आई (अल्ट्रा लार्ज स्केल इंटीग्रेशन) कहा जाता है, को एक एमसी चिप में 1000000 इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को शामिल किया गया ,और एक यू एलएसआई बनाया गया।

इस genration में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की अवधारणा वॉइस रिकॉग्निशन, मोबाइल संचार, सेटेलाइट ,संचार एंड सिग्नल डाटा प्रोसेसिंग को स्टार्ट किया गया।

ये पोस्ट भी पढ़े:- difference between ram and rom in Hindi | रैम और रोम में अंतर

उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं के रूप में जैसे java,vb and .NET की शुरुआत इस पीढ़ी में ही हुई थी । कंप्यूटर मशीनों के विकास के क्षेत्र में प्रगति के कारण कंप्यूटर बहुत ज्यादा व्यापक और उपयोगी हो गया है |

अब हमारे जीवन के सभी क्षेत्रों में कंप्यूटर का बहुत तेजी से इस्तेमाल किया जाता है।

computer ka avishkar kisne kiya tha

computer ka avishkar Charles Babbage ne kiya tha.

इलेक्ट्रॉनिक मशीनों का विकास

अबेकस को 5000 साल पहले विकसित किया गया था। जिसकी मदद से कंप्यूटर में गणना की जा सकती थी इसके अंदर मोतियों के ऊपर नीचे करके गणना की जाती थी यह उस समय कंप्यूटर की गणना के अनुसार सही था।

सन 1642 में ब्लैक पास्कल ने एक संख्यात्मक की पहला केलकुलेटर का अविष्कार किया | यह पीतल आयताकार box8 चल नंबर डायल करके 8 अंकों तक की संख्याओं को जोड़ने का काम करता था | उन्होंने मशीन का नाम कालीन दिया था।

analytical engine
analytical engine

कंप्यूटर की वास्तविक शुरुआत गणित के प्रोफेसर चार्ल्स बैबेज के द्वारा की गई थी उन्होंने इसका अविष्कार विवेक समीकरणों को हल करने के लिए किया था और उसे डिफरेंस इंजन का नाम दिया गया।

चार्ल्स बैबेज के द्वारा डिजाइन किया गया एनालिटिकल इंजन ही पहला कंप्यूटर के रूप में माना जाता है और जाना जाता है।

1924 में आईबीएम का आविष्कार हुआ 1960 तक डाटा प्रोसेसिंग के लिए पंच कार्ड का इस्तेमाल किया जाता था।
दूसरे विश्व युद्ध के दौरान कोलोसस द्वारा कोड ब्रेकर विकसित किया गया यह पहला इलेक्ट्रॉनिक डिजिटल कंप्यूटर था वर्ष 1946 में प्रथम ऑल परपज इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस कंप्यूटर ई एन आई सी एस ई (इलेक्ट्रॉनिक इंटीग्रेटर और केलकुलेटर)

वर्ल्डवाइड वेब 1990 में विकसित किया गया था| इसके आने के बाद में इंटरनेट में क्रांति आ गई अब जो काम कंप्यूटर पर कम समय में और धीमी गति से होते थे| एवं इंटरनेट के माध्यम से बहुत तेजी से होने लगे.

आजकल ऐसे स्मार्टफोन की बहुत डिमांड है जो टचस्क्रीन होते हैं जिनमें मोबाइल में इंटरनेट कनेक्टिविटी होती है, तो बहुत सारी एप्लीकेशन को रन करा सकते हैं और बहुत से व्यक्ति के साथ संवाद कर सकते हैं। (Introduction to computer)

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

computer क्या है ?

Computer एक ऐसा Electronic Device है जो User द्वारा Input किये गए Data में प्रक्रिया करके सूचनाओ को Result के रूप में प्रदान करता हैं, अर्थात् Computer एक Electronic Machine है जो User द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करती हैं| इसमें डेटा को स्टोर, पुनर्प्राप्त और प्रोसेस करने की क्षमता होती है।

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया था ?

कंप्यूटर का आविष्कार Charles Babbage ने किया था।

computer की कितनी पीढ़िया है ?

कंप्यूटर की 5 पीढ़िया है, जो कंप्यूटर के विकास के साथ साथ आयी है।

कंप्यूटर की वास्तविक शुरुआत किसने की थी ?

कंप्यूटर की वास्तविक शुरुआत गणित के प्रोफेसर चार्ल्स बैबेज के द्वारा की गई थी उन्होंने इसका अविष्कार विवेक समीकरणों को हल करने के लिए किया था और उसे डिफरेंस इंजन का नाम दिया गया।

दुनिया का पहला कंप्यूटर कौनसा हैं ?

चार्ल्स बैबेज के द्वारा डिजाइन किया गया एनालिटिकल इंजन ही पहला कंप्यूटर के रूप में माना जाता है और जाना जाता है।

दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर में इलेक्ट्रॉनिक घटक के रुप में किसका यूज़ किया गया था ?

दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों में इलेक्ट्रॉनिक घटक के रुप में ट्रां

हमारी ये पोस्ट जरूर पढ़े:-

आपने क्या सीखा

friends मुझे उम्मीद है, कि हमारी इस पोस्ट (Introduction to computer ) को पढ़ने के बाद में आपको कंप्यूटर के बारे में जानकारी मिल गयी होगी। और आपको फिर से इंटरनेट पर कंप्यूटर का परिचय और पीढ़िया हिंदी में सर्च करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

यदि आपकी हमारी इस पोस्ट (Introduction to computer) से जुडी कोई क्वेरीज या सवाल है, तो हमें कमेंट सेक्शन में बताये। हम जल्दी ही आपके कमेंट का जवाब देने की कोशिश करेंगे।

यदि आपको हमारी ये कंप्यूटर का परिचय (Introduction to computer) वाली पोस्ट उपयोगी लगी है, तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ में शेयर करे।

Thanks for visiting

Leave a Comment

error: Content is protected !!